उत्तराखण्डएक्सीडेंटदेहरादूनमौत

झोपड़ी में लगी भीषण आग, तीन मासूमों की जलने से मौत

ख़बर शेयर करें -

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर जिले में एक दर्दनाक हादसे में तीन मासूम बच्चों के मौत की खबर सामने आ रही है। अंबिकापुर के मैनपाट में देर रात एक घर में आग लगने से तीन मासूम बच्चे जिंदा जल गए हैं। जानकारी के मुताबिक जिस वक्त यह घटना घटी उस समय बच्चों के पिता व उसकी मां घर पर मौजूद नहीं थे। वही इस पूरी घटना की जानकारी के बाद पुलिस मौके पर पहुंच चुकी है। यह पूरा मामला कमलेश्वरपुर थाना क्षेत्र का बताया जा रहा है। 

आग लगने की घटना के बाद पुलिस  को मिली प्रारंभिक जानकारी के अनुसार बरिमा में माँझी बस्ती है। यहां देव प्रसाद और सुधनी माँझी झोपड़ी में रहते थे। बताया जा रहा है कि बच्चों का पिता देव प्रसाद पुणे में काम करता है, और इस वक्त भी पुणे में है। घर पर देव की पत्नी सुगनी, उनकी दो बेटियाँ आठ वर्षीया कुमारी गुलाबी, कुमारी सुषमा और एक लड़का 2 वर्षीय रामप्रसाद के साथ रह रही थे। जिस वक्त आगजनी की घटना हुई वह रात ढाई बजे से तीन बजे के बीच का बताया जा रहा है। फिलहाल आग कैसे लगी अभी तक इसके कारण का पता‌ नहीं चल पाया है। बताया जा रहा है कि जब झोपड़ी में आग लगी और झोपड़ी में बच्चे जल कर मारे गए तब बच्चों की माँ झोपड़ी में नहीं थी।

यह भी पढ़ें -  पुलिस की तत्परता के चलते रूकी नाबालिग लड़की की शादी

पुलिस ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि घटना शनिवार देर रात बताई जा रही है। कमलेश्वरपुर थाना क्षेत्र के बरिमा गांव एक परिवार झोपड़ी पर रहता था। घटना से पहले जब बच्चों की मां मिट्टी का चूल्हा जलाने के बाद पड़ोसी के घर गई थी। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार महिला सुधनी बाई ने रात करीब 9 बजे चूल्हा जलाया और अपनी दूसरी बड़ी बेटी को खोजने पड़ोसी के घर गई। इसके बाद वह करीब 3 बजे लौटी और देखा कि पूरा घर जलकर खाक हो गया है। मामले की सूचना मिलने के बाद पुलिस की एक टीम मौके पर पहुंची और प्रथम दृष्टया ऐसा लगता है कि चूल्हे की लपटों के कारण घर में आग लगी है। उन्होंने बताया कि आगे की जांच जारी है। 

यह भी पढ़ें -  आदि कैलाश यात्रा दल का पिथौरागढ़ में स्वागत, दिलाई शपथ
What’s your Reaction?
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
Join WhatsApp Group

Daleep Singh Gariya

संपादक - देवभूमि 24